बिहार की बेटी और मिथिला की लाडली भावना ने अकेले मिग-21 में भरी उड़ान, रचा इतिहास

PATNA : भारतीय वायुसेना की दूसरी लड़ाकू विमान पायलट भावना कंठ ने भी सफलतापूर्वक मिग-21 उड़ाकर इतिहास रच दिया है। भावना कंठ बेगूसराय जिले के बरौनी की हैं। इससे पहले अवनी चतुर्वेदी ने मिग-21उड़ाया था। दो साल पूर्व तीन लड़कियों को फाइटर पायलट स्ट्रीम के लिए चुना गया था। तीसरी लड़की मोहना सिंह है जो प्रशिक्षण ले रही है।

भावना कंठ ने अंबाला एयरफोर्स स्टेशन से मिग-21 में अकेले उड़ान भरी। उनकी उड़ान आधे घंटे की रही। इस साल दो अन्य लड़कियों को भी लड़ाकू विमान पायलट के प्रशिक्षण के लिए चुना गया है। वायुसेना में लड़ाकू विमानों के लिए पांच महिला पायलट हो गई हैं।

बता दें कि मिग-21 बाइसन्स की टेक-आफ और लैंडिंग स्पीड सबसे अधिक तकरीबन 340 किमी. प्रति घंटे की है। तीनों अपने एयरबेस स्टेशन से उड़ान भरेंगी।

बता दें कि अब तक तीनों ने सोलो सोर्टिज जैसे पायलट्स पीसी-7, किरन और हॉक जेट ही उड़ाया है। ऐसे विमानों को उड़ाना गुरिल्ला ट्रेनिंग के दौरान काफी आसान समझा जाता है। अब अवनि और भावना मिग-21 जैसे युद्धक बड़े लड़ाकू विमानों को उड़ाने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘अवनि ने मिग-21 टाइप 69 में अपने प्रशिक्षक के साथ उड़ान भरना भी शुरू कर दिया है। फिलहाल वह प्रशिक्षक के साथ टू सीटर मिग में उड़ान भर रही हैं। जल्द ही अकेले उड़ान भरकर इतिहास रचेंगी।’

वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘भावना भी जल्द ही अंबाला एयरबेस से उड़ान भरेगी। कालीकुंडा एयरबेस पर तैनात मोहाना को अभी इसके लिए थोड़ा इंतजार करना होगा। फिलहाल वह हॉक एडवांस्ड जेट उड़ाने की ट्रेनिंग ले रही हैं। उनको भी जल्द ही ऑपरेशनल स्कवॉडरन का प्रशिक्षण दिया जाएगा।’

loading...